fbpx

PADARTH KA NIROOPAN

by

पदार्थ निरूपण

पदार्थ शब्द की व्युत्पत्ति

यह दो शब्दों पद और अर्थ से मिलकर बना है पद से तात्पर्य है एक सार्थक शब्द या अक्षर और अर्थ से तात्पर्य है इंद्रियों का विषय अर्थात शब्द स्पर्श रूप रस और गंध आदि ।
कहा गया है कि पद के अर्थ को पदार्थ कहते हैं।

•पदार्थ का विभाजन एवं उनकी संख्या

वेदांत दर्शन ने पदार्थ दो माने है -आत्म तत्व और अनात्म तत्व।
योग दर्शन ने दो पदार्थ माने हैं – चित्त और आत्मा।
वैशेषिक दर्शन के प्रणेता कणाद ने पदार्थ छह प्रकार के माने हैं- द्रव्य ,गुण, कर्म, सामान्य, विशेष ,समवाय।

आचार्य चरक ने वैशेषिक दर्शन के अनुसार ही पदार्थों को दो भागों में विभक्त किया है – भाव पदार्थ और अभाव पदार्थ ।

जिसका अस्तित्व है वह सत् या भाव पदार्थ है और जिसका अस्तित्व नहीं है वह असत् या अभाव पदार्थ है।

भाव पदार्थ

१. द्रव्य – यह वह नित्य भाव पदार्थ है , जो क्रिया और गुण का आधार और कर्म तथा गुण का समवायिकरण होता है ।

२. गुण – यह समवाय सम्बन्ध से द्रव्य में रहने वाला वह नित्य पदार्थ है , जो स्वयं निष्क्रिय और चेष्टाराहित होता है , जैसे – लघु – गुरु , शीत – उष्ण आदि ।

३. कर्म – यह वह पदार्थ है जो एक ही साथं संयोग और विभाग में कारण हो एवं द्रव्य के आश्रित हो । कर्तव्य की क्रिया को कर्म कहते हैं । यह कर्म संयोग और विभाग में किसी अन्य कारण की अपेक्षा नहीं करता है । प्रयत्नादि के द्वारा की गयी चेष्टा को ‘ कर्म ‘ कहते हैं , जैसे – गमन , उत्क्षेपण , प्रसारण आदि ।

४. सामान्य – यह वह पदार्थ है जो सदैव सभी भावों की वृद्धि करने वाला होता है , जैसे – गोत्व , मनुष्यत्व आदि ।

यह तीन प्रकार से कार्य करता है –
द्रव्य सामान्य- १. मांस सेवन से मन की वृद्धि ,
गुण सामान्य- २. मधुर रस सेवन से कफ की वृद्धि और
कर्म सामान्य -३.दौड़ने से वायु की वृद्धि होती है ।

५. विशेष -यह ह्रास का कारण होता है । जैसे – मांस की वृद्धि होने पर वातवर्द्धक अस्थि का सेवन करना ।
-जो अलग करने वाली बुद्धि है वह विशेष है ।
-विशेष तुल्य ( समान ) के विपरीत अर्थ को बताता है ।

यह तीन प्रकार से कार्य करता है -१. द्रव्य विशेष- बाजरा या जोन्हरी सेवन से स्थूलता नष्ट होना ।
२. गुण विशेष- घृत या तेल के सेवन से स्निग्धता गुण के वात का क्षय होना और
३.कर्म विशेष- कफ की वृद्धि होने पर दौड़ना ।

६. समवाय -द्रव्यों के साथ गुणों का अपृथग्भाव ( अलग न होना ) ही समवाय सम्बन्ध है । यह नित्य होता है । जहाँ द्रव्य होता है वहां गुण निश्चित ही रहता है , जैसे – अग्नि में उष्णता , जल में शीतलता आदि ।

अभाव पदार्थ – किसी वस्तु की अनुपस्थिति ही उसका अभाव है ।
यह दो प्रकार का है -१ . संसर्गाभाव और २. अन्योन्याभाव ।

१. संसर्गाभाव – यह तीन प्रकार का है -१ . प्राग्भाव , २. प्रध्वंसाभाव और ३. अत्यन्ताभाव ।
( १ ) प्राग्भाव – किसी वस्तु की उत्पत्ति से पहले उसका न होना , जैसे – घड़े के निर्माण के पहले उसका न होना ।
( २ ) प्रध्वंसाभाव – वस्तु के नष्ट होने पर उसका अभाव होना , जैसे – धड़े के नष्ट होने के बाद उसका अभाव होना ।
( ३ ) अत्यन्ताभाव – किसी वस्तु का सर्वकालिक ( भूत , वर्तमान और भविष्य सभी काल में ) न होना , जैसे – अग्नि में शीतलता का अभाव ।
२. अन्योन्याभाव – दो वस्तुओं में पारस्परिक भिन्नता का होना जैसे — मनुष्य पशु नहीं है ।

•चरक ने वैशेषिक के अनुसार ही उक्त छः पदार्थ माने हैं -१ . सामान्य , २. विशेष , ३. गुण , ४. द्रव्य , ५. कर्म और ६. समवाय ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!