fbpx

MARMA SHARIR

by

मर्म शारीर – भाग-1

• मर्म की व्याख्या

( १ ) ” मर्म मारयन्ति इति मर्माणि । ” ( डल्हण )

• मर्म वह है , जिस पर आघात होने से मृत्यु हो जाती है ।

( २ ) ” अपि च मरण कारित्वात् मर्म , मरणवत् दुःखदायित्वात् वा इति । ” ( अरूणदत )

• मर्म वह है , जो मरण करे अर्थात् वह मर्म है , जिस पर आघात होने से मृत्यु हो जाए । अथवा मृत्यु के समान ही दुःख हो ।

• मर्म का सामान्य लक्षण

” विषमं स्पन्दनं यत्र पीड़िते रूक् च मर्म तत् । ” ( अ.ह.शा. ४/३७ )

 • जहां सिरा – धमनी का स्पन्दन विषम हो , वह भी मर्म स्थल है ।

• और मांस – अस्थि को दबाने में पीड़ा की विषम उत्पत्ति हो , वह स्थान मर्म है ।

• संख्या

कुल मर्म = १०७ = ” सप्तोत्तरं मर्मशतम् । “

 मुख्य मर्म = ३

• भेद-

 मर्मों का वर्गीकरण

( A ) षडंगो के अनुसार

शाखाओं में ११*४४ = ४४

 मध्य शरीर में १२ + १४ = २६

 शिर और ग्रीवा में  २६

कुल मर्म १०७

( B ) परिणाम के अनुसार या साध्य – असाध्यता के अनुसार

नाम- संख्या – महाभूत – मारककाल

१. सद्य : प्राणहर मर्म  19 – आग्नेय -1सप्ताह या तुरन्त

२. कालान्तर प्राणहर मर्म- 33- सौम्य + आग्नेय- 2-4 सप्ताह

३. विशल्यघ्न मर्म – 3- वायव्य- शल्य निकालते ही मृत्यु हो जाती है ।

४. वैकल्यकर मर्म 44 – सौम्य विकृति उत्पन्न होती है ।

५. रूजाकर मर्म -8- आग्नेय + वायव्य- पीड़ा लगातार होती रहती है ।

कुल मर्म 107

( C ) रचना के अनुसार

 १. मांस मर्म 11

२. सिरा मर्म 41

३. स्नायु मर्म- 27

४. अस्थि मर्म- 8

५. सन्धि मर्म 20

 कुल मर्म 107

( D ) परिमाण ( प्रमाण ) के अनुसार

•आधा अंगुल प्रमाण

• त्रि – अंगुल प्रमाण

• एक अंगुल प्रमाण

• चतुरंगुल प्रमाण

• द्वि – अंगुल प्रमाण

• मर्म का शल्य तन्त्रीय महत्व

 • आयुर्वेद शास्त्र में चिकित्सा के आठ अंग बताए हैं । धन्वन्तरि सम्प्रदाय के अनुसार व्याधि की चिकित्सा- औषधि , क्षारकर्म , अग्निकर्म , रक्तमोक्षण , शस्त्रकर्म आदि उपक्रमों द्वारा की जाती है ।

अत : शल्य चिकित्सा करने वाले चिकित्सक को शरीर स्थित मों का सूक्ष्म तथा स्पष्ट ज्ञान अवश्य होना चाहिए ।

ताकि क्षारकर्म – अग्निकर्म – शस्त्रकर्म – रक्तमोक्षण आदि उपक्रमों के करते समय वह मर्म को बचाकर ही इनका प्रयोग कर सके ।

जिससे शरीर में अन्य विकृति उत्पन्न न हो और व्याधि कष्टसाध्य न हो जाये ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!