fbpx

MAHESHVAREE SUTRA AND PRATYAHAR

by

माहेश्वरी सूत्र और प्रत्याहार •

‘ प्रत्याहार ‘ का अर्थ है संक्षेप में कथन । स्वर एवं व्यञ्जनों के उच्चारण में शरीर के जिस स्थान या क्रिया विशेष को प्रभावित करता है और जो चेष्टा करनी पड़ती है उसे यल कहते हैं ।
•यह दो प्रकार का होता है । प्रथम आभ्यन्तर प्रयल और द्वितीय बाह्यप्रयत्न ।

•माहेश्वरी सूत्र

• पाणिनि के चतुर्दश सूत्रों से प्रत्याहारों का निर्माण होता है । इन्हें ही माहेश्वर सूत्र कहा जाता है ।

  • माना जाता है कि जब शंकर जी ने डमरू बजाया था तब ये चतुर्दश माहेश्वर सूत्र निकले थे । इन्हीं चतुर्दश माहेश्वर सूत्रों से पाणिनि ने अष्टाध्यायी नामक अपूर्व एवं अनुपम व्याकरणशास्त्र की रचना की ।

•ये चौदह सूत्र निम्न है-
१. अउण
२. तालुक
३. ए ओड़
४.ऐ औच्
५. ह य व रट्
६.लण्
७.ञ म ङ ण नम्
८. झ भ ञ्
९ . घ ढ धष्
१०. ज ब ग ड दश्
११. ख फ छ ठ थ च ट तव्
१२. क पय्
१३. श ष स र
१४. हल्

•इन चतुर्दश सूत्रों से प्रमुख ४२ प्रत्याहार बनते हैं ।
इनके द्वारा सूत्रों के अर्थ समझने में सहायता मिलती है ।

• ४२ प्रत्याहार –
१.अण्
२. अक्
३.अङ्
४. अच्
५. अट्
६.अम्
७.अश्
८. अल्
९.इक्
१०. इच्
११. इण्
१२. उक
१३. एङ्
१४. एच्
१५. ऐच
१६. हश्
१७. हल्
१८. यण्
१ ९ यम्
२० . यञ्
२१. यय्
२२. यर्
२३. वश्
२४. वल्
२५. रल्
२६. मय्
२७. ङम्
२८. झष्
२ ९ . झश्
३०. झय्
३१. झर्
३२ – झल्
३३. मण्
३४. जश्
३५. वश्
३६. खय्
३७.खर
३८. छव्
३ ९ . चय्
४०.चर्
४१.शर्
४२. शल् ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!