fbpx

LASIKA SNSTHAN

by

लसिका संस्थान

लसिका तन्त्र में लसिका ऊतक ( Lymphoid tissue ) , लसिका केशिकाएँ ( Lymph capillaries ) , लसिका ग्रन्थियाँ ( Lymph glands or lymph nodes ) तथा लसिका वाहिनियाँ ( Lymphatic vessels ) सम्मिलित होते हैं ।

लसिका वाहिनियों को ही रसायनी कहते हैं । ये लसिका ग्रन्थियाँ तथा लसिका वाहिनियाँ सम्पूर्ण शरीर में इधर – उधर फैली रहती हैं । शरीर के विभिन्न अंग – प्रत्यंगों के सूक्ष्म कोषों ( Cells ) में उनके पोषणार्थ रक्त पहुँचाया जाता है । और उसका पोषण होने पर शेष रक्त तथा कोषों के त्याज्य पदार्थ वापस रक्त संवहन में चले जाते हैं ।

इस समय कोषों में स्थित लसिका ( रस ) सूक्ष्म लसिका वाहिनियों द्वारा ग्रहण की जाती है । और अन्त में हृदय की ओर रक्त ले जाने वाली सिराओं में उसे छोड़ दिया जाता है ।

•रसायनी- आयुर्वेदीय दृष्टि से रस का वहन करने वाली प्रणालियों को रसायनी कहा गया है । स्थान भेद से वे रसप्रपा हो या रसकुल्या या धमनियाँ , जिनके द्वारा रस का वहन होता है , वे सभी रसायनी कहलाती हैं ।

• लसिका ग्रन्थियाँ ( Lymph glands )

इनकी लम्बाई 1.25 mm . होती है ।

 ये अण्डाकार ( Oval ) अथवा सेम के बीज ( bean ) के आकार की रचना है , जो लसिका वाहिकाओं के मार्ग में कहीं – कहीं स्थित है ।

जिससे लसिका उनमें से होकर जाता है । प्रत्येक लसिका ग्रन्थि में एक ओर सूक्ष्म गर्त ( गढ्ढा ) पाया जाता है । जिसको मुखद्वार कहते हैं ।

इस छिद्र के द्वारा अभिवाही वाहिका ( Afferent duct ) लसिका ग्रन्थि में जाती है । और अपवाही वाहिका ( Efferent duct ) बाहर निकलती हैं । ये लसिका ग्रन्थियाँ Mediastinum , ingunial , iliac , intestinal , axillary , cervical .

• लसिका तन्त्र का कार्य ( Function of the lymphatic system )

1. Fagocytosis

लसिका केशिकाओं का मुख्य कार्य ऊतक अवकाशों से शोषण करना है । इनके द्वारा अवशोषित पदार्थ , लसिका वाहिनियों के द्वारा लसिका ग्रन्थियों में पहुँचते हैं । ये ग्रन्थियाँ रोगोत्पादक जीवाणुओं तथा अन्य बाहरी पदार्थों को , लसिका केशिकाओं की जीवाणु भक्षण क्रिया ( Fagocytosis ) के कारण , लसिका से पृथक् कर देती है और रक्त में नहीं पहुँचने देती । इस प्रकार ये ग्रन्थियाँ रक्त तथा शरीर के रक्षक की भाँति कार्य करती हैं ।

2. Formation of lymph capillaries

लसिका ग्रन्थियों का एक अन्य कार्य लसिका केशिकाओं का निर्माण करना है ।

• लसिका वाहिनियाँ ( Lymphatic vessels )

I. वाम रसकुल्या- Lt. lymphatic duct or thoracic duct

II . दक्षिण रसकुल्या- Rt . lymphatic duct

Leave a Comment

error: Content is protected !!